इस क्रान्ति को ईश्वर का समर्थन हासिल है

इस क्रान्ति को ईश्वर का समर्थन हासिल है
ईरान में इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैह के नेतृत्व में इस्लामी क्रान्ति की सफलता और मूल इस्लामी शिक्षाओं के आधार पर सरकार के गठन ने राजनीति की दुनिया में नए अध्याय को जोड़ा। विभिन्न क्रान्तियों व सरकारों के अस्तित्व का औचित्य पेश करने वाले विचारों में इस्लामी क्रान्ति एक अद्वितीय घटना थी। यह ऐसी घटना थी जो राजनेताओं के पारंपरिक ...

इस्लाम को मिला नया जीवन

इस्लाम को मिला नया जीवन
  36 साल पहले ईरान की जनता ने इन्हीं दिनों में इतिहास के सबसे मधुर और मनमोहक कालखंड का अनुभव किया। जनता अपनी क्रान्ति को सफलता की दहलीज़ पर पहुंचाने के लिए इस प्रकार संघर्षरत थी कि सारी दुनिया इसे देखकर आश्चर्यचकित थी। दूसरी ओर पहलवी सरकार ने साम्राज्यवादी आक़ाओं की चाटुकारिता की हद कर दी थी क्योंकि अमरीका और ब्रिटेन के समर्थन के क ...

क़ासिम बिन हसन

क़ासिम बिन हसन
क़ासिम बिन हसन सैय्यद ताजदार हुसैन ज़ैदी क़ासिम इमाम हसन बिन अली (अ) के बेटे थे और आप की माता का नाम “नरगिस” था मक़तल की पुस्तकों ने लिखा है कि आप एक सुंदर और ख़ूबसरत चेहरे वाले नौजवान थे और आपका चेहरा चंद्रमा की भाति चमकता था। क़ासिम बिन हसन कर्बला के मैदान में अपने चचा की तरफ़ से लड़ने वाले थे आपने 13 या 14 साल की आयु में यज़ीद की हज़ा ...

आयतुल्लाहिल उज़्मा गुलपाएगानी र.ह का जीवन परिचय

आयतुल्लाहिल उज़्मा गुलपाएगानी र.ह  का जीवन परिचय
मरहूम आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद मोहम्मद रेज़ा गुलपाएगानी, आयतुल्लाह हायरी के अच्छे शागिर्दों और चहेतों में से थे उनका जन्म 1316 हिजरी में गोगद गुलपाएगान नामक गांव में एक इल्मी घराने में हुआ, तीन साल की उम्र में मां व बाप के इस दुनिया से कूच कर जाने से दुनिया की कठिनाईयों से बचपन में ही परिचित हो गए। . सोलह साल की उम्र में एराक गए और जब तक ...

हैं न सच्ची बात

हैं न सच्ची बात
काफ़ी समय पूर्व एक किताब में आटोमेशन की परिभाषा देखी। लिखा था कि आपकी आवश्यकता और इच्छानुसट जो काम आपकी मेहनत के बिना स्वंय ही हो जाये उसी को आटोमेशन कहते हैं। इसके तुरन्त बाद लेखक ने लिखा था कि आप जब छोटे होते है तो इस प्रक्रिया को माता कहा जाता है। हैं न सच्ची बात ? -    शोध कर्ताओं के एक गुट  ने अपने अनुसंधान का परिणाम बताते हुये कह ...

आयतुल्लाह ख़ामेनई की द्रिष्टि में मेराज मोमिन

आयतुल्लाह ख़ामेनई की द्रिष्टि में मेराज मोमिन
सबसे अच्छा अवसर रमज़ानुल मुबारक एक अवसर है अल्लाह की तरफ़ ध्यान देने के लिये, साल के अकसर दिनों में दुनिया की चीज़ें और हमारे अन्दर की इच्छाएं हमें पनी तरफ़ खींचती रहती हैं और हम ख़ुदा को भूल जाते हैं, इसी लिये अल्लाह तआला ने रमज़ान को स्पेशल इस लिये रखा है कि इस महीने में इन्सान ख़ुदा को याद करे और अपनी आत्मा को ऊपर की तरफ़ ले जाए, ख़ ...

इमाम ख़ुमैनी का पूरी दुनिया में इस्लाम का प्रसार करना

इमाम ख़ुमैनी का पूरी दुनिया में इस्लाम का प्रसार करना
उन महान हस्तियों के नाम और याद को जीवित रखना जिन्होंने राष्ट्रों के भविष्य को ईश्वरीय विचारों और अपने अथक प्रयासों से उज्जवल बनाया है, एक आवश्यक कार्य है। इस्लामी गणतंत्र ईरान के संस्थापक स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैह मानव इतिहास की सबसे उल्लेखनीय हस्तियों में से एक समझे जाते हैं जिन्होंने समकालीन इतिहास में एक ईश्वरी ...

इमाम ख़ुमैनी के दस बड़े काम

इमाम ख़ुमैनी के दस बड़े काम
इंग्लैंड के एक भूतपूर्व प्रधान मंत्री ने दुनिया के साम्राजी राजनेताओं के एक सम्मेलन में यह एलान किया था कि हमें चाहिए कि इस्लाम को इस्लामी देशों में गोशा नशीन कर दें। इससे पहले भी और इसके बाद भी इस काम के लिए बहुत ज़्यादा पैसे खर्च किए गए लेकिन वह कामयाब न हो सके। इमाम खुमैनी (रह) जैसे महान नेता ने इस्लामी इंक़िलाब लाकर इस्लाम को दुन ...

आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनेई का परिचय

आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनेई का परिचय
इस्लाम धर्म, स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी द्वारा अस्तित्व में लाई गई उस क्रांति का आधार था जो ईरानी जनता के अभूतपूर्व समर्थन से सफल हुई। ईरान की इस्लामी क्रांति, अत्याचार से संघर्ष, न्याय की मांग और जनता की केंद्रीय भूमिका जैसी महत्वपूर्ण विशेषताओं के साथ आरंभ हुई और उसने न केवल एक प्राचीन व अत्याचारी राजशासन का अंत कर दिया बल्कि साम्रा ...

ईरान के प्रसिद्ध धर्मगुरू मीर सैयद अली फ़ानी इस्फ़हानी का जीवन परिचय

ईरान के प्रसिद्ध धर्मगुरू मीर सैयद अली फ़ानी इस्फ़हानी का जीवन परिचय
29 मई सन 1953 ईसवी को ब्रिटेन के पर्वतारोही एडमंड हिलेरी और उनके पर्वतारोही साथी तेनज़िंग नार्गे ने विश्व की सबसे उॅची पर्वत चोटी एवरेस्ट को सर किया। हिमालय पर्वत में स्थित 8848 मीटर उॅची यह चोटी विश्व की सबसे उॅची चोटी है। इस चोटी पर इन दोनों पर्वतारोहियों के पहुँच जाने के बाद पर्वतारोहियों के गुट के विभिन्न देशों से इस ओर आकृष्ट हुए। औ ...

हमसे संपर्क करें | RSS | साइट का नक्शा

इस वेबसाइट के सभी अधिकार इस्लाम14 के पास सुरक्षित हैं, वेबसाइट का उल्लेख करके सामग्री उपयोग किया जा सकता है। .