मासूमीन की ज़ियारत बिदअत और वहाबियत

मासूमीन की ज़ियारत बिदअत और वहाबियत
ज़ियारत व दर्शन का इस्लाम में विशेष स्थान है और वह मुसलमानों के निकट एक अच्छा कार्य है। मुसलमान शफ़ाअत अर्थात प्रलय के दिन सिफारिश/ तवस्सुल अर्थात सहारा व माध्यम और भले लोगों की क़ब्रों के सम्मान को ऐसी चीज़ मानते हैं जिसमें किसी प्रकार का संदेह नहीं है। पैग़म्बरे इस्लाम और ईश्वर पर ईमान रखने वालों की क़ब्रों का दर्शन मुसलमानों ...

वहाबी कठ्मुल्लाओं और सऊदी सरकार के हाथों इस्लामी धरोहरों की तबाही

वहाबी कठ्मुल्लाओं और सऊदी सरकार के हाथों इस्लामी धरोहरों की तबाही
इतिहास केवल इतिहास की पुस्तकों  तक सीमित नहीं है बल्कि इसको किसी भी देश की एतिहासिक इमारतों और स्थानों पर भी देखा जा सकता है। इमारतें , प्राचीन क़ब्रिस्तान, हज़ारों वर्ष पुराने गुंबद और स्तंभ भी लिखित इतिहास की भांति महत्वपूर्ण हैं बल्कि इनका महत्व पुस्तकों से भी अधिक है। कुछ समय से सऊदी अरब में इस्लाम का जीवित व सदृश्य इतिहास जो ...

बहावियत और शिफ़ाअत

बहावियत और शिफ़ाअत
शेफ़ाअत अर्थात सिफ़ारिश के शब्द से सभी पूर्णरूप से अवगत हैं। जब भी अपराध, पाप और एक व्यक्ति की निंदा की बात होती है और कोई व्यक्ति मध्यस्थ बनता है ताकि उसे दंड से मुक्ति दिलाए तो कहते हैं कि अमुक व्यक्ति ने उसके लिए सिफ़ारिश की। शेफ़ाअत का अर्थ होता है किसी व्यक्ति को होने वाली हानि को दूर करने के लिए मध्यस्थ बनना और उसके हितों की प ...

वहाबी और क़ुरआन का विरोध

वहाबी और क़ुरआन का विरोध
    क़ुरआन फ़रमाता हैः هُوَ مَعَكمُ‏ْ أَيْنَ مَا كُنتُم‏ ख़ुदा तुम्हारे साथ है तुम जहां भी रहो (सूरा हदीद आयत 4)  وَنَحْنُ أَقْرَ‌بُ إِلَيْهِ مِنْ حَبْلِ الْوَرِ‌يدِ और हम धमनी से भी अधिक़ क़रीब हैं (सूरा क़ाफ़ आयत 16) وَكَانَ اللَّـهُ بِكُلِّ شَيْءٍ مُّحِيطًا और ख़ुदा सदैव हर चीज़ को घेरे है (सूरा निसा आयत 126) فَأَيْنَمَا تُوَلُّوا فَثَمَّ وَجْهُ اللَّـهِ إِنَّ اللَّـهَ وَاسِعٌ عَلِيمٌ तो ज ...

वहाबियों द्वारा मुसलमानों का जनसंहार

वहाबियों द्वारा मुसलमानों का जनसंहार
शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जिस दिन इराक़, सीरिया, पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान या किसी अन्य मुसल्मि देश से बम विस्फोट या आत्मघाती कार्यवाही का समाचार न मिलता हो। वर्तमान समय में इराक़ और सीरिया, आतंकवादी गुटों की आतंकी और विध्वंसकारी कार्यवाहियों की सूचि में सर्वोपरि हैं। इन आतंकवादी कार्यवाहियों का मुख्य लक्ष्य, आम लोग हैं जिनमें ...

वाहाबियत और क़ुरआन का विरोध

वाहाबियत और क़ुरआन का विरोध
क़ुरआन फ़रमाता हैः هُوَ مَعَكمُ‏ْ أَيْنَ مَا كُنتُم‏ ख़ुदा तुम्हारे साथ है तुम जहां भी रहो (सूरा हदीद आयत 4)  وَنَحْنُ أَقْرَ‌بُ إِلَيْهِ مِنْ حَبْلِ الْوَرِ‌يدِ और हम धमनी से भी अधिक़ क़रीब हैं (सूरा क़ाफ़ आयत 16) وَكَانَ اللَّـهُ بِكُلِّ شَيْءٍ مُّحِيطًا और ख़ुदा सदैव हर चीज़ को घेरे है (सूरा निसा आयत 126) فَأَيْنَمَا تُوَلُّوا فَثَمَّ وَجْهُ اللَّـهِ إِنَّ اللَّـهَ وَاسِعٌ عَلِيمٌ तो ज ...

वहाबी सम्प्रदाय की हिंसात्मक सोंच

वहाबी सम्प्रदाय की हिंसात्मक सोंच
हिंसा और निर्दयता में प्रसिद्ध सऊद इब्ने अब्दुल अज़ीज़ ने मक्के पर क़ब्ज़ा करने के दौरान सुन्नी समुदाय के बहुत से विद्वानों को अकारण ही मार डाला और मक्के के बहुत से प्रसिद्ध व प्रतिष्ठित लोगों को बिना किसी आरोप के फांसी पर चढ़ा दिया। प्रत्येक मुसलमान को, जो अपनी धार्मिक आस्थाओं पर डटा रहता है, विभिन्न प्रकार की यातनाओं द्वारा डरा ...

वहाबियत और साम्राजी शक्तियां

वहाबियत और साम्राजी शक्तियां
मोहम्मद बिन अब्दुल वह्हाब ने कई शताब्दियों के बाद इब्ने तय्मिया के भ्रष्ठ विचारों का प्रचार करना आरंभ कर दिया। इन्ने तयमिया के भ्रष्ठ, ग़लत और फूट डालने वाले विचारों को १९वीं ईसवी शताब्दी के आरंभ में इतिहास की बहुत ही ख़राब व विषम स्थिति में प्रस्तुत किया गया। उस समय इस्लामी जगत को चारों ओर से पश्चिमी साम्राज्यवादियों के कड़े आक ...

वहाबियत, इतिहास और सच्चाई

वहाबियत, इतिहास और सच्चाई
वहाबियत, इतिहास और सच्चाई वहाबियत की आधारशिला रखने वाले इब्ने तैमिया ने अपने पूरे जीवन में बहुत सी किताबें लिखीं और अपनी आस्थाओं का अपनी रचनाओं में उल्लेख किया है। उन्होंने ऐसे अनेक फ़त्वे दिए जो उनसे पहले के किसी भी मुसलमान धर्मगुरुओं ने नहीं दिए विशेष रूप से ईश्वर के बारे में। वह्हाबियों का मानना है कि ईश्वर वैसा ही है जैसा कि ...

बहाईयत और शारीरिक संबंध

बहाईयत और शारीरिक संबंध
वह सम्प्रदाय जिनका और ईश्वरीय अस्तित्व नहीं है, वह लोगों को आपनी तरफ़ खींचने, और अपने अनुयायियों की संख्या बढ़ाने के लिए के हर प्रकार के लोगों के लिए कुछ नया और आकर्शित करने वाली चीज़ तैयार करें। कुछ लोग ईश्वर और धर्म की तलाश में हैं तो उनको अपने धार्मिक रूप और दीनी सूरत से अकर्शित करते हैं, और वह लोग जो स्वतंत्रता और वासना की तलाश में ...

हमसे संपर्क करें | RSS | साइट का नक्शा

इस वेबसाइट के सभी अधिकार इस्लाम14 के पास सुरक्षित हैं, वेबसाइट का उल्लेख करके सामग्री उपयोग किया जा सकता है। .