इस्लाम में एकता के उपाय पैग़म्बर (स) के द्वारा

इस्लाम में एकता के उपाय पैग़म्बर (स) के द्वारा
इस्लामी जगत में एकता का उद्देश्य यह है कि मुसलमान अपनी धार्मिक आस्थाओं के पालन के साथ ही पवित्र क़ुरआन, पैग़म्बरे इस्लाम और एक क़िबला जैसे संयुक्त धार्मिक बिन्दुओं पर बल दें और विभिन्न धार्मिक, राजनैतिक और जातीय मतभेदों से बचें जिससे इस्लामी जगत कमज़ोर होगा। इस बात में शक नहीं कि पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम ...

पति पत्नी के बीच

पति पत्नी के बीच
सच्चाई एसी विशेषता है जिसे किसी व्यक्ति के जीवन के विभिन्न आयामों में दिखना चाहिए।  साधारण शब्दों में यह कहा जा सकता है कि अपने भीतर पाई जाने वाली कमियों को स्पष्ट रूप में कहना सच्चाई है।  सच्चाई केवल यह नहीं है कि केवल सच बोला जाए बल्कि इसकी एक स्पष्ट पहचान, कथनी और करनी में समन्वय है।  मनोवैज्ञानिकों के मतानुसार व्यवहार और कथन मे ...

पति- पत्नी के बीच संबंध

पति- पत्नी के बीच संबंध
  इससे पहले हमने कहा था कि विवाह एक पावन बंधन है और इंसान के व्यक्तिगत जीवन में उसका बहुत महत्व है। इस आधार पर स्वाभाविक , प्राकृतिक, धार्मिक और सामाजिक कारणों से विवाह मनुष्य के जीवन की एक आधार भूत आवश्यकता है। समाज शास्त्रियों और प्रशिक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि सही विवाह और उसके समस्त पहलुओं को ध्यान में रखने में ही समाज की सु ...

मां बाप के हाथों में है बच्चों का भविष्य

मां बाप के हाथों में है बच्चों का भविष्य
अच्छा स्वभाव और विनम्र आचरण वाला व्यक्ति सदैव दूसरों के सम्मान का पात्र बना रहता है क्योंकि वह किसी का का दिल नहीं दुखाता दूसरों की सहायता करना चाहता है और लोगों के प्रति अपने मन में प्रेम भावना रखता है। .  यह बातें जो मनुष्य के चरित्र, व्यवहार और व्यक्तित्व को सुसज्जित करती हैं वहतभी किसी के मन में आती हैं जब उसकी प्रवृत्ति में मौज ...

एक सुन्दर लड़की जो बुरे परिवार में पली बढ़ी हो

एक सुन्दर लड़की जो बुरे परिवार में पली बढ़ी हो
परिवार आराम व शांति का घर है और परिवार समाज की इकाई होता है। यहां पर यह सवाल किया जा सकता है कि परिवार का गठन कब होता है तो इसके उत्तर में कहा जा सकता है कि परिवार का गठन उस वक्त होता है जब दो व्यक्ति एक दूसरे से विवाह करते हैं और दोनों विवाह के पवित्र बंधन में बंध जाते हैं। . अच्छे समाज के गठन के लिए इकाई का अच्छा होना ज़रूरी है। उदाहरण ...

समाज का तरीक़ा

समाज का तरीक़ा
अख़नफ़ बिन क़ैस कहते हैं एक दिन मैं अपने चचा सअसआ बिन सौहान के पास पहुँचा और अपने जीवन की कठिनाइयों के लिए उनसे शिकवा करने लगा तो उन्होंने मुझे ख़बरदार करते हुए कहाः भतीजे जब तुम किसी से शिकवा और शिकायत करोगे तो उसमें स्थितियां होंगी। 1. जिससे शिकायत करोगे वह तुम्हारा दोस्त होगा तो वह तुम्हारी परेशानी सुनकर परेशान और दुखी हो जाएग ...

सामाजिक जीवन को बेहतर बनाना

    इंसान के जीवन में दूसरों के साथ लेन देन बहुत महत्वपूर्ण विषय है। इंसान के सामाजिक जीवन को बेहतर बनाने में सामाजिक संबंध बहुत महत्वपूर्ण हैं। इंसान एक सामाजिक प्राणी है और सामाजिक होने की मांग यह है कि इंसान अपने सामाजिक दायित्वों को पहचाने और उसे ठीक तरह से अंजाम दे। ईश्वरीय धर्म इस्लाम ने भी इस महत्वपूर्ण विशेषता पर बहुत ध् ...

फ़ैशन समाज और परिवार की आमदनी

फ़ैशन समाज और परिवार की आमदनी
परिवार का आर्थिक प्रबंधन हर समाज का एक महत्वपूर्ण मामला है यानी आमदनी और खर्च में संतुलन स्थापित करना। परिवार के आर्थिक मामले का प्रबंधन धन- सम्पन्न परिवार तक सीमित नहीं है बल्कि यह मामला उन परिवारों के लिए अधिक महत्वपूर्ण है जिनकी आमदनी और खर्च में समन्वय नहीं है। इस संबंध में एक ध्यान योग्य बिन्दु यह है कि अगर किसी की आमदनी में ...

अशलीलता और बहाइयत

  अनुवादकः सैय्यद ताजदार हुसैन ज़ैदी वह सम्प्रदाय जिनका कोई ईश्वरीय अस्तित्व नहीं है, वह लोगों को आपनी तरफ़ खींचने, और अपने अनुयायियों की संख्या बढ़ाने के लिए के हर प्रकार के लोगों के लिए कुछ नया और आकर्शित करने वाली चीज़ तैयार करें। कुछ लोग ईश्वर और धर्म की तलाश में हैं तो उनको अपने धार्मिक रूप और दीनी सूरत से अकर्शित करते हैं, औ ...

परिवार वालों के साथ संबन्ध बनाए रखना

परिवार वालों के साथ संबन्ध बनाए रखना
  इस्लाम ने जिन समाजी व्यवहारों की तरफ़ बहुत अधिक ध्यान दिलाया है और मुसलमानों को उनका पालन करने का आदेश दिया है उनमें से एक यह है कि वह अपने घर परिवार और रिश्तेदारों के साथ हमेशा अच्छे सम्पर्क बनाये रखें इसी को सिल-ए-रहेम अर्थात रिश्तेदारों से मिलना जुलना कहा जाता है। . इसलिये एक मुस्लमान के लिए बहुत ज़रूरी है कि अपने घर परिवार और ...

हमसे संपर्क करें | RSS | साइट का नक्शा

इस वेबसाइट के सभी अधिकार इस्लाम14 के पास सुरक्षित हैं, वेबसाइट का उल्लेख करके सामग्री उपयोग किया जा सकता है। .